Wednesday, November 15, 2017

ATM Card Frauds-ATM Frauds on Phone calls how it works precautions and safety measures

ad300
Advertisement


एटीएम कार्ड फ्रॉड-फोन कॉल से एटीएम फ्रॉड्स-यह कैसे काम करता है और बचने के उपाय।

भोपाल, मप्र का एक प्रमुख शहर तथा राजधानी जहाँ एटीएम से कार्ड क्लोन कर 35 लोगों के लाखों रुपए उड़ा दिए जाने का मामला , इस तरह का अकेला मामला अकेला नहीं है। जयपुर समेत और भी कई शहरों में ऐसे मामले पहले भी सामने चुके हैं। एटीएम बूथ में हिडन कैमरे तथा मेमोरी कार्ड भी लगे हुए मिले हैं। दुनिया में करोड़ों एटीएम बूथ हैं जिनसे अरबों रुपये लोगों की खून पसीने की कमाई के साइबर अपराधियों द्वारा उडा लिए जाते हैं। अपराधियों द्वारा कई तरीके अपनाये जाते हैं और आज हम इस श्रंखला की पहली कड़ी में एटीएम फोन कॉल स्कैम पर चर्चा कर रहे हैं. -
ATM Frauds on Phone calls
ATM Frauds on Phone calls


ATM फ़ोन कॉल फ्रॉड कैसे करते हैं साइबर अपराधी 

ATM फ़ोन कॉल फ्रॉड में साइबर अपराधी सबसे पहले बैंक अधिकारी बन कर ग्राहक को फोन करते हैं। ग्राहक को बताया जाता है कि उसके एटीएम कार्ड में कुछ गड़बड़ है जिसे सही करना है इसलिए अपने एटीएम कार्ड का नंबर पासवर्ड बताएं । ग्राहक को संतुष्ट करने की कोशिश की जाती है।  अगर ग्राहक फिर भी संतुष्ट नहीं होता तो एटीएम ब्लॉक करने यहाँ तक कि खाता बंद करने की धमकी दी जाती है। ये अपराधी इतने चालक होते हैं कि बात करते ही ग्राहक को पहचान लेते हैं और अगर इनको लगे कि यह ग्राहक फँसने वाला नहीं है तो तुरंत फोन काट देते हैं।


ATM फ़ोन कॉल फ्रॉड साइबर अपराधियों द्वारा  सबसे ज्यादा अपनाया जानेवाला तरीका है।

ग्राहक  के पास कोई टेलीफोन कॉल आता है तथा कहता है कि वह आपकी बैंक से बोल रहा है तथा आपके एटीएम में गड़बड़ है तथा आप ये जानकारियां दें अन्यथा आपका एटीएम कार्ड ब्लॉक कर देंगे और वह आपका ATM कार्ड का नंबर और पासवर्ड पूछता है सबसे ज्यादा केस एटीएम कार्ड नंबर व पासवर्ड मांगने के ही सामने आए हैं परन्तु  फ़ोन पर साइबर अपराधियों द्वारा ये जानकारियां भी मांगी जाती हैं -
एटीएम सह डेबिट कार्ड का नंबर
कार्ड का सीवीवी नंबर [कार्ड सत्यापन अंक , यह  - 3 से 4 अंकों की संख्या कार्ड के फ्लिप पक्ष पर मुद्रित] होती है और ऑनलाइन ट्रांसफर में काम आती है।
क्रेडिट / डेबिट कार्ड की एक्सपायरी तिथि
क्रेडिट / डेबिट कार्ड का पासवर्ड
क्रेडिट / डेबिट कार्ड का एटीएम पिन
इंटरनेट बैंकिंग लॉगिन आईडी और पासवर्ड और अन्य व्यक्तिगत जानकारी
आपका बैंक खाता संख्या


सावधानियां - ATM फ़ोन कॉल फ्रॉड साइबर अपराधियों से बचने के उपाय
सामान्य पासवर्ड जैसे 1234,  5678,अथवा  कोई तारीख जैसे जन्मतिथि आदि कभी रखें क्योंकि अपराधी इनका पता बहुत आसानी से लगा लेते हैं
हमेशा कठिन पासवर्ड रखें जिसमें अपर केस लोबर केस के अक्षर, स्पेषियल करेक्टर और सिंबल आदि शामिल हों
पासवर्ड समय समय पर बदलते रहें
अपने ATMCard पर पासवर्ड कभी लिखें
अपनी बैंक का फोन नंबर हमेषा पास रखें ताकि किसी प्रकार की समस्या का पता लगने पर तुरंत बैंक को सूचित करके ATMCard को ब्लाक करवाया जा सके
आपके ATMCard पर हस्ताक्षर करने की जगह है वहां पर ATMCard मिलते ही हस्ताक्षर करें
अपनी बैंक से आने वाले हर ईमेल अलर्ट  को अति महत्वपूर्ण समझें और उनमें दिए गये सुझावों अथवा निर्देषों का पालन करें
अगर अपके पास कोई टेलीफोन काल आता है और आपसे कहता है कि वो आपकी बैंक से अधिकारी बोल रहा है और आपके ATMCard का नंबर और पिन;नंबर पूछता है तो तो उसे कभी ना बताएं और तुरंत अपनी बैंक को सूचित करें।
हमेशा याद रखें कि आपको एटीएम कार्ड आपकी बैंक ने दिया है और उसके नंबर तथा अन्य सभी तरह की जानकारी बैंक के रिकॉर्ड में दर्ज है, फिर बैंक को आपसे पूछने की जरुरत क्या है।
हमेशा याद रखें कि हरेक बैंक में एटीएम कार्ड धारकों की संख्या लाखों में होती है और बैंक अधिकारियों के पास इतना समय नहीं होता कि एक एक कार्ड की निगरानी कर सकें।
हमेशा याद रखें कि अगर आपके खाते अथवा एटीएम कार्ड में किसी तरह की कोई गड़बड़ होने की स्थिति में बैंक आपको फ़ोन नहीं करेगा बल्कि आपके खाते को ब्लॉक कर देगा परिणाम स्वरुप आप बैंक को फोन करेंगे या दौड़ कर अपनी बैंक में जायेंगे।
अगर किसी परिस्थिति में बैंक आप को फोन करेगा भी तो इतनी ही बात कहेगा कि कृपया अपनी पहचान का दस्तावेज लेकर बैंक में आयें।



विशेष निवेदन -  कृपया इस जानकारी को अधिकतम लोगों तक पहुंचाए तथा भोलेभाले लोगों को अपराधियों के जाल में फंसने से बचाएं। अगर आपके पास कोई जानकारी है तो कृपया हमसे साझा करें या अपने स्तर पर जनहित में प्रकाशित करें।


Share This
Latest
Next Post

Pellentesque vitae lectus in mauris sollicitudin ornare sit amet eget ligula. Donec pharetra, arcu eu consectetur semper, est nulla sodales risus, vel efficitur orci justo quis tellus. Phasellus sit amet est pharetra

0 comments: